Chalo!

Chalo…Kahin to chalo,In Sard raaton me,In baarish ki baharon me,Nam si hawao me,Gehre Taaron ke saye me,Badalon me chupe,Chand ke…

बावरे

बावरे बावरे हुए फिरते है, सपनों की तलाश में,रात कब कट जाती है, पता ही नहीं चलता… – © शुभम…